NEET UG Counseling Postponed: नीट यूजी कॉउन्सिलिंग स्थगित, 8 जुलाई को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

नीट यूजी (NEET UG) काउंसलिंग प्रक्रिया को मेडिकल काउंसलिंग कमिटी ने स्थगित कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट में 8 जुलाई को सुनवाई होगी। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा नीट यूजी NEET UG परिणाम जारी होने के बाद विवाद की स्थिति बनी हुई है। नीट यूजी अभ्यर्थियों को एक और झटका लगा है क्योंकि काउंसलिंग प्रक्रिया आज से शुरू होनी थी, जो अब स्थगित कर दी गई है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Youtube Channel Join Now
NEET UG Counseling Postponed

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि काउंसलिंग प्रक्रिया 6 जुलाई से शुरू होगी, लेकिन कोई डिटेल शेड्यूल जारी नहीं किया गया था। मेडिकल काउंसलिंग कमिटी ने नीट यूजी (NEET UG) की काउंसलिंग अगले आदेश तक स्थगित कर दी है और नई तारीख की घोषणा जल्द की जाएगी।

सुप्रीम कोर्ट ने नीट यूजी काउंसलिंग पर रोक लगाने से इनकार किया है। नीट यूजी मामले में दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि फिलहाल काउंसलिंग पर रोक नहीं लगेगी। अब अगली सुनवाई 8 जुलाई को होगी।

शनिवार को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की, जिसमें नीट यूजी परीक्षा रद्द न करने की अपील की गई। सरकार ने बताया कि परीक्षा में बड़े स्तर पर अनियमितताओं के कोई सबूत नहीं मिले हैं, इसलिए परीक्षा दोबारा कराना उचित नहीं है।

नीट यूजी (NEET UG) के लिए काउंसलिंग प्रक्रिया कई चरणों में आयोजित होती है, जो निम्नलिखित हैं:

  • ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन: सबसे पहले, विद्यार्थियों को नीट यूजी (NEET UG ) काउंसलिंग के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होता है। यह चरण बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके बिना काउंसलिंग प्रक्रिया में भाग नहीं लिया जा सकता।
  • ऑप्शन भरना: रजिस्ट्रेशन के बाद, विद्यार्थी अपनी पसंद के कॉलेज और कोर्स के विकल्प भरते हैं। इसमें उन्हें ध्यानपूर्वक विकल्पों का चयन करना होता है क्योंकि यह उनके भविष्य की दिशा तय करता है।
  • लॉक करना: ऑप्शन भरने के बाद, विद्यार्थियों को अपने विकल्पों को लॉक करना होता है। यह प्रक्रिया सुनिश्चित करती है कि विद्यार्थी द्वारा चयनित विकल्प फाइनल हैं और इन्हें बदला नहीं जा सकता।
  • सीट अलॉटमेंट: ऑप्शन लॉक करने के बाद, सीट अलॉटमेंट की प्रक्रिया शुरू होती है। इसमें विद्यार्थियों को उनके रैंक और विकल्पों के आधार पर कॉलेज और कोर्स अलॉट किए जाते हैं।
  • एलॉटेड कॉलेज में रिपोर्ट करना: अंत में, विद्यार्थियों को अलॉट किए गए कॉलेज में रिपोर्ट करना होता है। इस चरण में, विद्यार्थियों को अपनी सीट कन्फर्म करनी होती है और कॉलेज में आवश्यक दस्तावेज़ जमा करने होते हैं।

NEET UG Counseling Postponed Update

दस्तावेजों की जरूरत: इस पूरी प्रक्रिया के दौरान विद्यार्थियों को कई दस्तावेज़ों की जरूरत होती है, जिनमें नीट यूजी एडमिट कार्ड, रैंक कार्ड, मार्कशीट्स, आईडी प्रूफ, पासपोर्ट साइज फोटो, और अन्य आवश्यक प्रमाणपत्र शामिल हैं। इन दस्तावेज़ों के बिना काउंसलिंग प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकती है।

कुल मिलाकर, नीट यूजी की काउंसलिंग प्रक्रिया एक सुव्यवस्थित और चरणबद्ध प्रक्रिया है, जिसमें विद्यार्थियों को ध्यानपूर्वक और सही जानकारी के साथ भाग लेना होता है। इस प्रक्रिया का उद्देश्य योग्य विद्यार्थियों को उनकी पसंद के मेडिकल कॉलेज और कोर्स में प्रवेश दिलाना है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!